नेहरू पुरस्कार

स्वर्गीय प्रधानमंत्री श्री जवाहरलाल नेहरू और विश्व शांति के कार्य के लिए उनके जीवन भर के समर्पण और अंतरराष्ट्रीय समझ की स्मृति के लिए श्रद्धांजलि के रूप में भारत सरकार ने 1965 में अंतरराष्ट्रीय समझ के लिए जवाहरलाल नेहरू पुरस्कार की शुरूआत की।

यह विश्‍व के लोगों के बीच अंतरराष्ट्रीय समझ, सद्भावना और दोस्ती को बढ़ावा देने के लिए उत्कृष्ट योगदान हेतु प्रतिवर्ष दिया जाता है।  पुरस्कार में नकद 2.5 लाख रुपए (विदेशी मुद्रा में परिवर्तनीय) और एक प्रशस्ति पत्र दिया जाता है। पुरस्कार दो व्यक्तियों के बीच विभाजित किया जा सकता है जिसपर दिए गए वर्ष में मान्यता हेतु समान रूप से योग्य पाए जाने पर जूरी द्वारा विचार किया जाता है।

यह पुरस्कार राष्ट्रीयता, जाति, धर्म या लिंग पर ध्‍यान दिए बिना सभी व्यक्तियों के लिए खुला है, लेकिन संघ, संस्था या संगठन इस पुरस्कार के लिए पात्र नहीं है। पुरस्कार हेतु विचार किए जाने के लिए यह समान्‍यत: आवश्‍यक होगा कि व्यक्ति को उसकी सक्षमता के साथ किसी के द्वारा लिखित रूप में सिफारिश की जाए। तथापि, यदि यह विचार किया जाता है कि प्रस्तावों में से कोई भी स्‍वीकार किए जाने लायक नहीं है तो जूरी उस वर्ष के लिए पुरस्कार को रोकने के लिए स्वतंत्र है। नामांकन से ठीक पहले पांच वर्ष के भीतर हाल ही में किए गए कार्य के लिए पुरस्कार हेतु विचार किया जाएगा। तथापि, पुराने कार्य पर भी विचार किया जा सकता है यदि हाल ही में इसका महत्व कम या खत्‍म नहीं हो गया हो। विचार के लिए पात्र होने के लिए एक लिखित कार्य अवश्‍य प्रकाशित किया जाना चाहिए। पुरस्कार को एक उच्च सार्वजनिक पद धारण करने वाला व्यक्ति को ही दिए जाने की आवश्यकता नहीं है। पुरस्‍कार के लिए सही मायने में योग्‍य वह व्‍यक्ति होगा जिसने विभिन्न देशों के लोगों के बीच शांति और अंतरराष्ट्रीय समझ तथा मित्रता के लिए शान्ति से कार्य किया हो।

जवाहरलाल नेहरू पुरस्कार भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद् द्वारा प्रशासित किया जाता है।
1965 में इस पुरस्कार की स्थापना के बाद से जवाहरलाल नेहरू पुरस्कार से सम्मानितों की सूची देखने के लिए यहां क्लिक करें.

विक्टोरिया और अल्बर्ट संग्रहालय में भारतीय संग्रह के लिए नेहरू ट्रस्ट

विक्टोरिया और अल्बर्ट संग्रहालय में भारतीय संग्रह के लिए नेहरू ट्रस्ट ब्रिटेन का दौरा फैलोशिप, यात्रा पुरस्कार, लघु अध्ययन और अनुसंधान अनुदान (ब्रिटेन) और लघु अध्ययन और अनुसंधान अनुदान (भारत) का प्रस्‍ताव दे रहा है। इसके अलावा वी. और ए. जैन आर्ट फंड भी अनुसंधान और यात्रा अनुदान की एक श्रृंखला का प्रस्‍ताव दे रहा है।

उक्‍त के लिए आवेदन फार्म इस साइट से डाउनलोड किया जा सकता है: http://www.nticva.org/application-form.html