आजाद मेमोरियल लेक्चर

मौलाना आजाद की स्मृति को सम्मान देने के लिए वर्ष 1958 में स्थापित आजाद मेमोरियल व्याख्यान विश्‍व के विभिन्न देशों के लोगों के बीच बेहतर समझ को बढ़ावा देने को प्रोत्‍साहित करने को अभिप्रेत करता है।

पंडित जवाहरलाल नेहरू, भारत के प्रथम प्रधानमंत्री, ने पहला आजाद मेमोरियल व्याख्यान दिया। तब से विश्‍व भर से प्रख्यात लोगों को इन व्याख्यान को देने के लिए आमंत्रित किया जा रहा है।

.स्मारक व्याख्यान की सूची के लिए यहां क्लिक करें

आजाद व्याख्यान की सूची

पूर्व वक्ता विषय और वर्ष

जवाहर लाल नेहरू

भारत, आज और कल, 1959

अर्नाल्ड ट्वानबी

एक विश्व और भारत, 1960

लॉर्ड एटली

संयुक्त राष्ट्र का भविष्य और लोकतंत्र का भविष्य, 1961

सी वी रमन

मानव ज्ञान के द्वार, 1962

वाल्टर हैस्टीन

यूरोपीय समुदाय - शांतिपूर्ण संघ का एक नया मार्ग, 1963

कार्लोस आर रुमलू

समकालीन राष्ट्रवाद और विश्व व्यवस्था, 1964

रेने माह्यू

अंतर्राष्ट्रीय सहयोग: सहकारिता, तकनीक और नैतिकता, 1965

लीनुस पॉलिंग

विज्ञान और विश्व शांति, 1967

डी.एस. कोठारी

एटम, मनुष्‍य और अहिंसा, 1969

लॉर्ड बटलर

अस्तित्व उच्च शिक्षा पर निर्भर करता है, 1970

एल्स बेब्‍लर

परमाणु युग में राष्ट्रीय संप्रभुता, 1972

डोरोथी होद्ग्किन

विस्‍मयाकुल वैज्ञानिक, 1973

सैय्यद हुसैन नसर

पश्चिमी विज्ञान और एशियाई संस्कृति, 1974

जो एप्‍पीयाह

विकासशील सामाज में लोकतंत्र और कानून की भूमिका, 1975

सबूरो ओकिता

विकासशील अर्थव्यवस्थाएं और जापानी अनुभव, 1977

सलीम अली

भारत में पक्षी अध्ययन: इसका इतिहास और महत्व, 1978

एक एम खुसरो

विकासशील अर्थव्यवस्थाओं का भविष्य, 1980

सीगफ्रीड ए. शूल्‍ज

प्रेमचंद: एक पश्चिमी मूल्यांकन, 1981

बादल सरकार

रंगमंच की बदलती भाषा, 1982

मोहम्मद हसन ईआइ-जय्यात

भारत और मिस्र: प्राचीन राष्ट्र के बीच आधुनिक संबंध, 1983

अलफोंसो गार्सिया रोबल्स

परमाणु निरस्त्रीकरण: मानव जाति के अस्तित्व के लिए एक महत्वपूर्ण मुद्दा, 1984

एंड्रियास सी. पापाड्रंयू

शांति के लिए प्रयास, 1985

रॉबर्ट गेब्रियल मुगाबे

समकालीन अफ्रीका में युद्ध, शांति और विकास, 1986

अरुणा आसफ अली

विज्ञान, समाजवाद और मानवतावाद, 1989

एंड्रयू हक्सले

विज्ञान - एक पराराष्ट्रीय गतिविधि, 1990

आर. वेंकटरमण

मौलाना आजाद और भारत की एकता, 1991

न्यायमूर्ति मोहम्मद सैय्यद एआई-अश्‍मावी

धर्म और राजनीति, 1992

बुतरस बुतरस-घाली

वर्तमान में संयुक्त राष्ट्र में परिलक्षित वर्तमान दुनिया की चुनौतियां, 1993

टैन श्री (डॉ.) मो. गजाली शफी

संस्कृति का नेतृत्व, विकास और प्रगति - मलेशियाई अनुभव, 1994

लक्ष्मण कादिरगमार, पी.सी., सांसद

21वीं सदी में एशिया, 1995

पी.एन. हक्सर

21वीं सदी की ओर देखना, 1996

इंद्र कुमार गुजराल

विरासत और वादा: आने वाले कल का भारत, 1997

न्यायमूर्ति इस्माइल मोहम्मद

भारतीय के लोकाचार, 1998

प्रो. जगदीश भगवती

आज का स्वतंत्रता संग्राम - मानवता का अंतरराष्ट्रीय प्रवाह, 2002

डॉ. एन.आर. नारायण मूर्ति

वर्तमान में अंतर्राष्ट्रीय प्रवासन का प्रबंधन - भारत में मानव-प्रेम की तकलीफें, 2003

लॉर्ड मेघनाद देसाई

भूमंडलीकरण और संस्कृति, 2004

प्रो. वांगरी मुटा मुथाई

पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में नेतृत्व की भूमिका, 2007

श्री मार्टिन लूथर किंग III

एक नई अहिंसक क्रांति, 2009

लॉर्ड मेघनाद देसाई

वैश्वीकरण और महानगरीय संस्कृति, 2010

डॉ. बाल्मीकि प्रसाद सिंह

बुद्ध दृष्टिकोण: एक सामंजस्यपूर्ण विश्‍व की दिशा में मार्ग, 2011,

हामिद करजई

हमारे समय के मौलाना, 2012

गोपालकृष्ण गांधी

मौत के द्वार पर खड़े वे लोग बोले, 2013