मौलाना आजाद भारतीय संस्कृति केंद्र, काहिरा

1982 में स्थापित, मौलाना आजाद भारतीय संस्कृति केंद्र (एमएसीआइसी) क्षेत्र में एकमात्र भारतीय सांस्कृतिक केंद्र है। काहिरा को इस केंद्र के स्थान के रूप में अरब भाषी दुनिया में मिस्र की पूर्व प्रख्यात स्थिति, सांस्कृतिक विश्वबंधुत्व का इसका इतिहास और भारत के साथ इसके सभ्यतागत संपर्क के लिए चुना गया था। केंद्र का नाम उपयुक्त रूप से विद्वान राजनेता मौलाना अबुल कलाम आजाद के नाम पर है जो भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद् के संस्थापक थे और उनके

अरब देशों के साथ घनिष्ठ संबंध थे।

एमएसीआइसी नियमित रूप से हिंदी, उर्दू और योग में कक्षाएं और समय-समय पर भारतीय नृत्य और पाक-शैली में कक्षाएं आयोजित करता है। यहाँ एक द्वि-साप्ताहिक फिल्म स्क्रीनिंग कार्यक्रम और हर महीने के अंतिम सोमवार, मिस्र-भारत मैत्री संघ के सहयोग से एक व्याख्यान कार्यक्रम आयोजित किया जाता है। भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद् द्वारा प्रायोजित मंडलियों द्वारा भारतीय संगीत और नृत्य के कार्यक्रमों के आयोजन के अलावा, यहाँ नियमित रूप से स्थानीय कलाकारों द्वारा तस्वीरों और चित्रों की प्रदर्शनियां दोनों, अपने स्वयं के काहिरा शहर परिसर और काहिरा इस्माइलिया आदि में भी आयोजित की जाती है। एमएसीआइसी ने काहिरा के सांस्कृतिक परिदृश्य में एक खास जगह बना ली है। यह ऐसी जगह के रूप में जाना जाता है जहां आप सबसे अच्छी भारतीय संस्कृति और सबसे अच्छी भारतीय चाय प्राप्त कर सकते हैं।

महात्मा गांधी की आवक्ष प्रतिमा

आईसीसीआर मिस्र के विदेश मामलों के मंत्रालय के परिसर में स्थित एशियाई मामलों के विभाग में स्थापना के लिए महात्मा गांधी की कांस्य की आवक्ष प्रतिमा भेंट कर रहा है। आवक्ष प्रतिमा काहिरा स्थित भारतीय दूतावास के माध्यम से उपलब्ध करायी जाएगी। यह महात्मा गांधी की एक मान्यता का प्रतीक है और भारत-मिस्र संबंधों के सार्वजनिक प्रोफ़ाइल का एक महत्वपूर्ण तत्व हो जाएगी। प्रतिमा को 2 अक्टूबर, 2011 को स्थापित किया जाएगा।

श्री राकेश कावरा

एस.एस./ कार्यवाहक निदेशक

मौलाना आजाद भारतीय संस्कृति केंद्र

भारतीय दूतावास

23 ताज़ात हर्ब स्ट्रीट

डाउन टाउन, काहिरा, मिस्र

टेलीफोन: 002-02-23933396 / 23953437

ई-मेल: sa.cairo@mea.gov.in, dirmacic@ indembcairo.com

hoc.cairo@mea.gov.in