भारतीय सांस्कृतिक केन्द्र सुवा, फिजी

भारत और फिजी गणराज्य ऐतिहासिक और सांस्कृतिक संबंधों से जुड़े हुए हैं। 14 मई, 1879 को भारत से पहली बार गिरमिटिया श्रमिकों के साथ “लेओनिडास” जहाज फिजी के समुद्रतट पर पहुंचा। बाद में भारत से अधिक जहाजों के आगमन के साथ उनकी संख्या में वृद्धि हुई। इन श्रमिकों की सन्तान जो अब पाँचवी पीढ़ी है, जनसंख्या का लगभग 38% है और देश के आर्थिक, राजनीतिक और सामाजिक ताने-बाने का हिस्सा हैं। उन्होने अपने पारंपरिक भारतीय सांस्कृतिक संबंध बनाए रखे है। विदेशों में बसे भारतीयों की उपस्थिति से दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों में बहुत योगदान मिला है।

भारतीय सांस्कृतिक केंद्र (आईसीसी), सुवा भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद् द्वारा विदेश में 1972 में स्थापित पहला सांस्कृतिक केंद्र था। आई.सी.सी., सुवा कर्नाटक स्वर संगीत, कथक और भरतनाट्यम नृत्य, भारतीय शास्त्रीय वाद्य यंत्र –सस्‍वर तबला, हारमोनियम, योग और हिंदी में पाठ्यक्रम संचालित करता है। आईसीसी उपकेन्द्र, लौतोका भरतनाट्यम नृत्य, भारतीय शास्त्रीय वाद्य यंत्र – सस्वर तबला/ हारमोनियम और योग में पाठ्यक्रम संचालित करता है। सभी विषयों का संचालन शुरुआती, मध्यवर्ती, और उन्नत - तीन समूहों में प्रत्येक मानकीकृत पाठ्यक्रम के साथ, अंशकालिक स्थानीय शिक्षकों  द्वारा किया जाता हैं। सभी कक्षाएँ नि:शुल्क हैं।

 

आइसीसी नियमित कक्षाओं की गतिविधियों के साथ-साथ, सांस्कृतिक संध्या, प्रदर्शनियों, फिल्म शो, नृत्य और संगीत का प्रदर्शन, सेमिनारों और कार्यशालाओं का आयोजन भी करता है। आईसीसी, सुवा भारतीय संस्कृति और विरासत के पहलुओं पर व्याख्यान एवं प्रदर्शन के साथ ही पुस्तकों एवं संगीत वाद्ययंत्रों का उपहार देने जैसी सेवा की गतिविधियां भी चलाता है।

वर्ष 2011 में फिजी में भारतीय सांस्कृतिक केंद्र के अस्तित्व के 40 साल हो चुके हैं। आईसीसी द्वारा इस अवसर पर एक साल के लंबे उत्सव का आयोजन किया गया।

 

फिजी में आईसीसी के 40 साल-भारत महोत्सव 2011-12

इस महोत्सव की वीडियो क्लिप देखने के लिए यहां क्लिक करें

श्री के.एल॰कनोजिया

निदेशक

भारतीय सांस्कृतिक केंद्र

भारतीय उच्चायोग

स्तर 6,

एलआईसीआई भवन बट स्ट्रीट,

पी.ओ. बॉक्स 471 सुवा, फिजी।

टेलीफोन: 00-679-3301125 (का.) 00-679-9989065 (मो.)

ईमेल: culture.suva@mea.gov.in