प्रदर्शनियां

परिषद् के कार्यों का एक महत्वपूर्ण पहलू विदेश में न केवल भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत बल्कि समकालीन उपलब्धियों को भी को प्रस्‍तुत करना है। परिषद् नियमित रूप से भारत के समकालीन और पारंपरिक कला की प्रदर्शनियों प्रायोजि‍त करती है।

विदेश जाने वाली प्रदर्शनियां: भारतीय सांस्‍कृतिक संबंध परिषद् के पास प्रदर्शनियों (पेटिंग, फोटो, टेक्‍सटाइल) का समृद्ध संग्रह है जिसको विदेशों में प्रमुख महोत्‍सवों और कला कार्यक्रमों में प्रदर्शन के लिए भेजा जाता है।

भारत आने वाली प्रदर्शनियां: भारतीय सांस्‍कृतिक संबंध परिषद् अन्य देशों के साथ द्विपक्षीय सांस्कृतिक आदान-प्रदान कार्यक्रम के अंतर्गत और अपनी गतिविधियों में कार्यक्रम के अंतर्गत भी भारत में प्रदर्शनियों के लिए विदेश से प्रदर्शनियां प्राप्त करती है।

होरिजॉन सीरीज: - भारतीय सांस्‍कृतिक संबंध परिषद् के पास प्रोफेशनल आर्ट गैलरी है - "आजाद भवन आर्ट गैलरी" और "होरिजॉन सीरीज" के भाग के रूप में हर शुक्रवार से बुधवार तक लगातार प्रदर्शनियों का आयोजन कर रही है। इन प्रदर्शनियों में प्राय: विभिन्न ललित कला में आगामी और साथ ही स्थापित कलाकारों दोनों का कार्य शामिल हैं।

कलाकार रेजिडेंसी: हम भारत में कला रेजिडेंसी के आयोजन के माध्यम से कलाकारों के घनिष्ठ पारस्‍परिक संपर्क का आयोजन कर रहें हैं। यह रेजीडेंसी कार्यक्रम एकजुटता हासिल करने के लिए कूटनीति से परे एक कदम, कला और संस्कृति कूटनीति है और कला के सार्वभौमिक माध्यम से राष्‍ट्रों के बीच मिलनसारिता और मित्रता का माहौल साझा करने के लिए है। रेजीडेंसी के दौरान कलाकार अद्वितीय सांस्कृतिक पहचान की बेहतर समझ को साझा करते हैं और इसका प्रचार करते हैं।

अन्य कार्यक्रम: उपर्युक्‍त के अतिरिक्‍त परिषद् ललित कला के प्रचार के लिए भारत और विदेश में अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रमों में सहयोग और समर्थन करती है।